Demat Account क्या है ? और यह कैसे काम करता है

SikkaBazar

दोस्तों आज हमने जाना है की Demat Account Kya Hai, Trading Account Kya hai और इन्हे किस प्रकार खोला जाता है (Demat Account Kaise open Kare) और इनका उपयोग क्या है।


दोस्तों सिक्का बाजार पर एक बार फिर आपका स्वागत है। जब भी हम शेयर या शेयर मार्केट के बारे में बात करते है। तो एक बहुत ही महत्वपूर्ण शब्द का प्रयोग होता है और वो शब्द है डीमैट अकाउंट (Demat Account), बात सही भी है क्योंकी जब तक हम डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोल नहीं लेते तब तक हम शेयर मार्केट में निवेश नहीं कर सकते।

बहुत से लोग आज भी नहीं जानते है की डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट क्या है (What is Demat and Trading Account) और सच में इन दोनों अकाउंट में कोई अंतर है, या डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट एक ही है?

वैसे तो डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट दोनों अलग-अलग है।

तो आज की पोस्ट में हम समझेँगे की डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट क्या है और डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट में क्या अंतर है? (Difference Between Demat and Trading Accounts)

डीमैट अकाउंट क्या है ?

डीमैट अकाउंट (Demat Account)

डीमैट खाता 'डीमटेरियलाइज्ड अकाउंट' का एक संक्षिप्त रूप है। यह एक बैंक खाते के समान है। जिस तरह आपके बचत खाते में पैसा रखा जाता है, उसी तरह आपके खरीदे गए शेयरों को आपके डीमैट खाते में रखा जाता है।

दूसरे शब्दों में, एक डीमैट खाता एक सुविधा के रूप में कार्य करता है जहां आपके द्वारा खरीदे गए शेयरों को जमा किया जाता है और बेचे गए स्टॉक को हटा दिया जाता है। डीमैट खाते का उपयोग केवल स्टॉक के भंडारण के लिए किया जाता है, लेन-देन (खरीदने / बेचने) के लिए नहीं।

डीमैट खाते के बारे में त्वरित तथ्य

भारत में इंटरनेट लोकप्रिय होने से पहले, डीमैट खाते नहीं थे। जब भी आप स्टॉक खरीदते थे , वो स्टॉक्स कागजात पर ख़रीदे जाते थे और शेयर सर्टिफिकेट प्रदान किए जाते थे। हालाँकि, पेपर शेयर प्रमाणपत्रों का उपयोग करने की कई सीमाएँ थीं। वे फटे हुए या चोरी या सुरक्षा से संबंधित मुद्दों का सामना करते थे या स्याही समय के साथ फीकी पड़ जाती थी ।

फिर भी, 1990 के दशक के मध्य से इंटरनेट आने के बाद, शेयरों को खरीद्दारो के डीमैट खाते में इलेक्ट्रॉनिक डीमटेरियलाइज्ड रूप में रखा जाने लगा। इसने पुराने पेपर शेयर प्रमाणपत्रों की अधिकांश सीमाओं को हल कर दिया।

डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट किस प्रकार खोला जाता है


डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होती है-

  • पैन कार्ड/ PAN Card
  • आधार कार्ड (पते के प्रमाण के लिए) /Aadhar card (for address proof)
  • रद्द किया गया चेक / बैंक स्टेटमेंट / पासबुक/Canceled cheque/Bank Statement/Passbook
  • पासपोर्ट साइज फोटो/ Passport size photos

आपका सेविंग अकाउंट किसी भी निजी / सार्वजनिक भारतीय बैंक में हो सकता है।

उस बैंक के माध्यम से आप अपना ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट खोल सकते है।

ट्रेडिंग अकाउंट क्या है?

ट्रेडिंग अकाउंट (Trading Account)

ट्रेडिंग अकाउंट शेयर बाजार में शेयर खरीदने और बेचने का एक माध्यम है। सरल शब्दों में, इसका उपयोग बाजार में स्टॉक के लिए ऑर्डर देने के लिए मतलब खरीदने या बेचने के लिए किया जाता है।

विभिन्न स्टॉकब्रोकर अपने ट्रेडों को सरल बनाने के लिए अपने क्लाइंट को विभिन्न ट्रेडिंग टूल प्रदान करते हैं। उदाहरण के लिए, Zerodha, भारत में सबसे बड़ा स्टॉकब्रोकर है जो स्टॉक में व्यापार करने के लिए अपने प्लेटफॉर्म के रूप में  KITE ’प्रदान करता है। एक बार जब आप एक स्टॉकब्रोकर के साथ अपना ट्रेडिंग अकाउंट खोल लेते हैं, तो आप उन प्लेटफार्मों का उपयोग करके अपने स्टॉक के खरीदी और बिक्री के आदेश दे सकते हैं।

डीमैट और ट्रेडिंग खातों का उदाहरण

आइए एक उदाहरण की मदद से ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट के बीच के अंतर को समझते हैं। मान लें कि आप टाटा मोटर्स के 100 स्टॉक खरीदना चाहते हैं। यहां, प्रक्रिया के दौरान अनुक्रम  निम्नानुसार होगा -

  • सबसे पहले, आपको अपने बचत खाते में खरीद राशि के बराबर या उससे अधिक की बचत राशि रखनी होगी।
  • इसके बाद, आप बचत खाते से ट्रेडिंग खाते में धन स्थानांतरित करेंगे।
  • अब, आप अपने ट्रेडिंग खाते का उपयोग करके और राशि का भुगतान करके स्टॉक एक्सचेंज से टाटा मोटर्स के शेयर खरीदेंगे।
  • अंत में, पैसा आपके ट्रेडिंग खाते के माध्यम से विक्रेता को ट्रांसफर किया जाता है और टाटा मोटर्स  के शेयरों को आपके डीमैट खाते में ट्रांसफर कर दिया जाता है।

अब मान लेते हैं कि कुछ महीनों के बाद, आप अपने 100 शेयरों में से टाटा मोटर्स के 20 शेयरों को बेचना चाहते हैं। यहाँ क्रम निम्नानुसार होगा -

  • सबसे पहले, आप खरीददार को खोजने के लिए अपने ट्रेडिंग खाते का उपयोग करके बाजार में बेचने का आदेश देंगे।
  • यदि कोई खरीददार मिल जाता है, तो शेयर आपके डीमैट खाते से खरीददार तक पहुंच जाएंगे।
  • अंत में, आपके स्टॉक को बेचकर प्राप्त धन आपके ट्रेडिंग खाते से आपके लिंक्ड बचत खाते में ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट के बारे में जानने के लिए कुछ अन्य बिंदु

  • भारत के अधिकांश लोकप्रिय स्टॉकब्रोकर, डीमैट और ट्रेडिंग खाते एक साथ खोलते हैं (भारत में इन्हे 2-इन-1 खाते के रूप में भी जाना जाता है) । उदाहरण के लिए, ज़ेरोधा, एंजेल ब्रोकिंग, 5 पैसा (Zerodha, Angel Broking, 5 Paisa) आदि।
  • कुछ बड़े स्टॉकब्रोकर (आम तौर पर बैंक ब्रोकर) भी अपने ग्राहकों को 3-इन-1 खाते यानि सेविंग + डीमैट + ट्रेडिंग खाते की पेशकश करते हैं। उदाहरण के लिए आईसीआईसीआई डायरेक्ट, एचडीएफसी सिक्योरिटीज (ICICI Direct, HDFC Securities) आदि।
  • सामान्य तौर पर, ट्रेडिंग खाते के लिए कोई वार्षिक रखरखाव शुल्क नहीं होता है, जहां डीमैट खाते के लिए यह रखरखाव शुल्क दलाल से दलाल तक भिन्न हो सकता है। यह आमतौर पर प्रति वर्ष लगभग 300-400 रुपये होता है।
  • इन दिनों, निवेशक और व्यापारी, प्रमुख स्टॉकब्रोकर के साथ 10 मिनट के भीतर तत्काल (पेपरलेस) डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं। बहरहाल, ऑफ़लाइन खाता खोलने की सुविधा अभी भी भारत में लोकप्रिय है और इन सभी दलालों द्वारा पेश की जाती है।
  • डीमैट और ट्रेडिंग खाते के लिए खाता खोलने का शुल्क भी दलाल से दलाल तक भिन्न होता है। कुछ ब्रोकर मुफ्त खाता खोलने की पेशकश करते हैं। हालांकि, उनमें से अधिकांश आपके ब्रोकरेज खाते को खोलने के लिए 300-500 रुपये के बीच कहीं चार्ज करेंगे।
  • इसके अलावा, आपको एक ही पैन कार्ड का उपयोग करके कई डीमैट और ट्रेडिंग खाते खोलने की भी अनुमति है। उदाहरण के लिए, आपके पास कई खाते हो सकते हैं - एक आईसीआईसीआई (ICICI direct) में और दूसरा ज़िरोधा (Zerodha) में।
  • अंत में, अपने ब्रोकर को अपना डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलने के लिए समझदारी से चुनें यदि आप अनावश्यक शुल्क और जोखिम से बचना चाहते हैं।

सारांश

भारत में ट्रेडिंग और डीमैट खाते के बारे में इस लेख में हमने जो चर्चा की है, उसे जल्दी से संक्षेप में समझेंगे।

एक ट्रेडिंग खाता, बाजार में हिस्सेदारी खरीदने या बेचने के लिए एक मंच प्रदान करता है। यह आपके बचत खातों और डीमैट खातों के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करता है। सरल शब्दों में, यह आपके डीमैट खाते से हिस्सा लेता है और उन्हें बाजार में बेचता है।

दूसरी ओर, यह आपके बचत खाते से पैसे लेता है और डीमैट खाते में रखने के लिए एक शेयर खरीदता है। इसके अलावा, एक डीमैट खाता आपके शेयरों को इलेक्ट्रॉनिक डीमटेरियलाइज्ड रूप में रखने की सुविधा प्रदान करता है।  

तो दोस्तों आज हमने जाना है की Demat Account Kya Hai, Trading Account Kya hai और इन्हे किस प्रकार खोला जाता है (Demat Account Kaise open Kare) और इनका उपयोग क्या है।  

दोस्तों हम उम्मीद करते है की हमारे इस पोस्ट से आपको मदद मिली होगी।  ऐसी ही और महत्त्वपूर्ण जानकारी के साथ मिलते है अगले पोस्ट में।  

थैंक्यू दोस्तों