स्टॉक और शेयर मार्केटिंग क्या है (Stocks & Share Marketing in Hindi)

SikkaBazar

दोस्तों इस पोस्ट में हमने बहुत ही सरल भाषा में शेयर या स्टॉक क्या हैं? शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट क्या है? Stocks kya he? Share Market in Hindi पर चर्चा की है।


दोस्तों आप सभी का सिक्का बाजार पर स्वागत है। बहुत से लोग आज भी स्टॉक मार्केटिंग और स्टॉक जैसे शब्दों को केवल न्यूज़ या अखबारों में पड़ते है। आज भी बहुत से लोग डरते है की स्टॉक मार्केटिंग में पैसा लगाना मतलब नुकसान ही नुकसान है। और ऐसा इसलिए भी है क्यों की लोगो में स्टॉक मार्केटिंग की पूरी जानकारी नहीं है, लोग घबराते है की कहाँ पैसा अटका दिया। तो क्यों न दोस्तों आज हम सबसे पहले जाने की स्टॉक क्या है और स्टॉक मार्केटिंग क्या होती है। (What is Share Marketing)

स्टॉक या शेयर क्या है (What is Stock or Share )

स्टॉक ये सब शुरू होता है एक कंपनी से, जैसे की एक प्राइवेट कंपनी है, उदहारण के लिए कंपनी का नाम है ABC,  मतलब यह है की कंपनी पूरी तरह से मालिकों (प्रोमोटर्स) के स्वामित्व में है। इसके अलावा बता दे की कंपनी ABC एक उत्पादन कंपनी है और अपने क्षेत्र में अच्छा कर रही है।

अब मालिक नए शहरों में अपनी कंपनी का विस्तार करना चाहते हैं और विकास के लिए अपने क्षेत्र में नए अनुसंधान और विकास भी कर रहे हैं। और इन सभी के लिए कंपनी को पूंजी (धन) की आवश्यकता होती है।

अब, आइए देखें कि मालिकों को आवश्यक पूंजी प्राप्त करने के लिए क्या विकल्प हैं।

सबसे पहले, कंपनी का विस्तार करने के लिए कंपनी अपने स्वयं के मालिकों (प्रोमोटर्स) से पूंजी प्राप्त करने का प्रयास करेगी। यह पूंजी जुटाने का सबसे आसान तरीका है, क्योंकि इसके विकास के लिए प्रमोटर कंपनी में अपनी बचत/होल्डिंग आसानी से लगा सकते हैं। इसी तरह का विकल्प  फ्रेंड्स, फैमिली हो सकता है, जो इस कंपनी में पैसा लगाने के लिए तैयार हो सकते हैं।

यदि ये दोनों पर्याप्त नहीं हैं, तो धन जुटाने के लिए एक अन्य विकल्प एंजेल निवेशकों (Angel Investor) या (वेंचर कैपिटलिस्ट (Venture Capitalist's )) के पास जा सकता है। लेकिन यहां, मालिकों को अपनी कंपनी (स्टेक्स) का एक हिस्सा इन निवेशकों को देना होगा। इसके अलावा,एंजेल निवेशकों या (वेंचर कैपिटलिस्ट) को ढूंढना थोड़ा मुश्किल है।

यदि उपरोक्त विकल्पों में से कोई भी कंपनी के लिए पूर्ण पूंजी की आवश्यकता को पूरा नहीं करता है, तो उसे सबसे बड़े धन स्रोत, बैंक के पास जाना होगा। ये बैंक उस कंपनी को बड़ा ऋण दे सकते हैं जिसके लिए उन्हें कुछ ब्याज देना होगा और अवधि के अंत में पूरी तरह से पूंजी वापस करनी होगी। हालांकि, ब्याज के साथ ऋण का भुगतान करना कंपनियों के लिए एक परेशानी भरा विकल्प हो सकता है।

अब कंपनी ABC के लिए क्या विकल्प है? कंपनी A को इतनी बड़ी पूंजी कहाँ से मिल सकती है? जवाब सार्वजनिक है। कंपनी ABC अपने पैसे के बदले में लोगों को कंपनी का थोड़ा स्वामित्व देकर बड़ी रकम प्राप्त कर सकती है। और यहां से शेयर बाजार में कंपनी ABC की यात्रा शुरू होती है।

शेयर बाजार एक ऐसी जगह है जहां कंपनी अपने स्वामित्व (Ownership) (स्टॉक (Share) के रूप में) जनता को बेच सकेगी।

और लोग कंपनी ABC के शेयर क्यों खरीदेंगे?

यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि बिक्री, कमाई, राजस्व आदि के मामले में लोग कंपनी के विकास को लेकर कितने सकारात्मक हैं।  फिर जनता कंपनी के स्वामित्व के साथ अपने पैसे का व्यापार करने के लिए स्टॉक खरीदेगी। ये शेयर मूल्य में वृद्धि कर सकते हैं क्योंकि कंपनी भविष्य में अच्छा प्रदर्शन करती है, जिससे सार्वजनिक निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिलता है।

इस प्रकार, स्वामित्व का हिस्सा देने से, कंपनी ABC अपनी वृद्धि और विकास के लिए बड़ी मात्रा में धन जमा करने में सक्षम होगी।

तो दोस्तों आप समझे क्या की कंपनी के स्वामित्व के हिस्से को स्टॉक या शेयर कहा जाता है

स्टॉक या शेयर (Stocks or Share)  


स्टॉक एक सामान्य शब्द है जिसका उपयोग किसी भी कंपनी के स्वामित्व का वर्णन करने के लिए किया जाता है। स्टॉक कंपनी की संपत्ति और कमाई पर एक दावे का प्रतिनिधित्व करता है। जैसे ही आप अधिक स्टॉक प्राप्त करते हैं, कंपनी में आपकी स्वामित्व हिस्सेदारी अधिक हो जाती है। शेयर, इक्विटी (Equity) या स्टॉक, सभी मूल रूप से एक ही चीज का मतलब है।

आम तौर पर, कंपनी अपने पूर्ण शेयरों को जनता के लिए पेश नहीं करती है। लगभग सभी मालिक (प्रमोटर) अपने हिस्से के स्वामित्व को अपने हाथों में रखने के लिए उनके साथ स्टॉक का एक हिस्सा रखते हैं। उदाहरण के लिए, रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुकेश अंबानी के पास कंपनी की लगभग 51% हिस्सेदारी है। बाकी उन्होंने जनता, एफआईआई, डीआईआई आदि को बेच दिया है।

इसे दूसरे उदाहरण से बेहतर समझते हैं। मान लें, कंपनी ABC ने 10,00,000 शेयर प्रदान करने का फैसला किया जो कंपनी के पूरे मूल्य का गठन करता है। कुल में से, यह जनता को 6,00,000 शेयरों की पेशकश करने और शेष 4,00,000 शेयरों को प्रमोटरों के साथ रखने का फैसला करता है। यहां,प्रमोटर कंपनी में 40% स्वामित्व रखते हैं।

शेयर बाजार क्या है (What is Share Market)

जैसा कि दोस्तों अब जब आप समझ गए हैं कि स्टॉक क्या हैं, तो आइए हम उपरोक्त चर्चा में किए गए स्टॉक मार्केट शब्दों की मानक परिभाषाओं पर भी ध्यान दें।

शेयर बाजार (Share Market)


शेयर बाजार वह बाजार है जिसमें सार्वजनिक रूप से आयोजित कंपनियों के शेयरों को एक्सचेंजों या ओवर-द-काउंटर बाजारों के माध्यम से ख़रीदा या बेचा जाता है। यह एक ऐसी जगह है जहां   सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों का कारोबार होता है। शेयर बाजार को दो मुख्य वर्गों में विभाजित किया जा सकता है। Primary बाजार और Secondary बाजार।

  • Primary बाजार - यह वह जगह है जहाँ नए शेयरों को पहली बार सार्वजनिक पेशकश यानि आईपीओ (IPO or Initial Public Offering) के माध्यम से बेचा जाता है। खुदरा निवेशक, म्यूचुअल फंड, डोमेस्टिक और विदेशी संस्थागत निवेशक प्रमोटरों से हिस्सा खरीदते हैं। संस्थागत निवेशक आमतौर पर कंपनी द्वारा पहली बार इश्यू के दौरान इनमें से अधिकांश शेयर खरीदते हैं।स
  • Secondary बाजार - बाद के सभी व्यापार Secondary बाजार में चलते हैं जहां प्रतिभागियों में संस्थागत और व्यक्तिगत निवेशक दोनों शामिल होते हैं।

प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) और Initial Public Offering (IPO)


आईपीओ का मतलब है की पहली बार जब किसी निजी कंपनी के शेयर को जनता के लिए पेश किया जाता है। यह बाजार में पहली बार अपनी परियोजनाओं के वित्तपोषण के लिए जनता से धन इकट्ठा करने का एक स्रोत है। बदले में ,कंपनी में निवेशकों को ,कंपनी हिस्सा देती है। आईपीओ अक्सर छोटी, छोटी कंपनियों द्वारा जारी किए जाते हैं जो पूंजी का विस्तार करने की मांग करते हैं, लेकिन वे निजी स्वामित्व वाली बड़ी कंपनियों द्वारा भी सार्वजनिक रूप से कारोबार करने की कोशिश कर सकते हैं।

अब, कहानी को और आगे बढ़ाते हैं। कंपनी ABC ने शेयर बाजार में प्रवेश करने का फैसला किया है।

जब पहली बार कंपनी बाजार में प्रवेश करती है, तो उसे जनता को खरीदने के लिए शेयरों की पेशकश कीमत प्रदान करनी होती है। बाजार में प्रवेश करने की इस प्रक्रिया को आरंभिक सार्वजनिक पेशकश यानी आईपीओ (Initial Public Offering) (या सार्वजनिक रूप से सार्वजनिक) कहा जाता है। आईपीओ Primary बाजार में पेश किया जाता है, जहां विक्रेता कंपनी है और खरीददार जनता है। आईपीओ के बाद, स्टॉक Secondary  बाजार में जाता है, जहां खरीददार और विक्रेता दोनों सार्वजनिक होते हैं। यहां जनता आम तौर पर कंपनी के स्वामित्व का व्यापार/निवेश करने के लिए या केवल मुनाफा बुक करने के लिए करती है।

मार्केट कैपिटलाइज़ेशन (Market Capitalization)


मार्केट कैप या मार्केट कैपिटलाइज़ेशन किसी कंपनी के शेयरों के कुल बाज़ार मूल्य को दर्शाता है। यह एक शेयर के मौजूदा बाजार मूल्य से कंपनी के कुल शेयरों को गुणा करके गणना की जाती है। निवेश समुदाय इस आंकड़े का उपयोग कंपनी के आकार को निर्धारित करने के लिए करता है।इसको हम एक उदहारण के साथ समझते है।

दोस्तों हम यहां फ्री-फ्लोट मार्केट कैपिटलाइज़ेशन शब्द को भी परिभाषित करना चाहेंगे। यह जनता को दिए जाने वाले कुल शेयरों और प्रति शेयर की कीमत का उत्पाद है। मान लें, कंपनी ABC ने 10,00,000 शेयर प्रदान करने का फैसला किया जो कंपनी के पूरे मूल्य का गठन करता है। कुल में से, यह जनता को 6,00,000 शेयरों की पेशकश करने और शेष 4,00,000 शेयरों को प्रमोटरों के साथ रखने का फैसला करता है। यहां,प्रमोटर कंपनी में 40% स्वामित्व रखते हैं।

बता दें कि कंपनी ABC के प्रत्येक शेयर की कीमत 50 रुपये है और यह 6,00,000 सार्वजनिक शेयरों की पेशकश करता है। फिर, यहां फ्री फ्लोट मार्केट कैपिटलाइजेशन 50 * 6 ,00,000 के बराबर होगा। कुल बाजार पूंजीकरण 50 * 10,00,000 होगा।

सारांश

दोस्तों इस पोस्ट में हमने बहुत ही सरल भाषा में शेयर या स्टॉक क्या हैं? शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट क्या है? Stock kya he? Stock Market kaise kam karta he? पर चर्चा की है हालांकि यह सिर्फ एक शुरुआत है दोस्तों। इसके बाद, आपको सेंसेक्स, एनएसई, बीएसई (Sensex, NSE, BSE) आदि जैसे अग्रिम शेयर बाजार की शर्तों को समझने की जरूरत है।

जिससे आप स्टॉक मार्केट में बेझिझक अपना निवेश कर सके।और सच में दोस्तों अगर सही दिशा में निवेश किया तो फायदा ही फायदा है। जिससे आप अपने सपने पुरे कर सकते है।

चूँकि स्टॉक मार्केटिंग एक ऐसा प्लेटफार्म है जंहा हम कम समय में ज्यादा लाभ उठा सकते है।

चूँकि मिडिल क्लास फैमिली में आज की तारीख में खर्चे अधिक है और इनकम कम है और मिडिल क्लास फैमिली में लोग कामकाज में उलझे रहते है और इन सब बातो पे ध्यान नहीं दे पाते है  और वही रह जाते है जहा से शुरआत की थी। पर दोस्तों थोड़ा सा ध्यान और जानकारी आपको बहुत आगे बड़ा सकती है और आपके सपनो को पूरा कर सकती है।

थैंक्यू दोस्तों मिलते है अगले पोस्ट में।